सूचनाः-

सूचनाः- ये ब्लॉग 10 नवंबर 2014 को खुलासों की दुनिया के साथ बदल दिया जाएगा क्योकि बहुत साड़ी एक जैसी पोस्ट होने के कारण पाठकों को दिक्कत होती है। 10 नवंबर 2014 से हमारे ये ब्लॉग होंगे :- हिंदुत्व की आवाज @ www.savdeshi.blogspot.com
खुलासो की दुनिया @ www.fbkidunia.blogspot.com
विज्ञानं और तकनिकी जानकारी @ www.hindivigyan.blogspot.in

सूचनाः-

सूचनाः- ये ब्लॉग 10 नवंबर 2014 को खुलासों की दुनिया के साथ बदल दिया जाएगा क्योकि बहुत साड़ी एक जैसी पोस्ट होने के कारण पाठकों को दिक्कत होती है। 10 नवंबर 2014 से हमारे ये ब्लॉग होंगे :- हिंदुत्व की आवाज @ www.savdeshi.blogspot.com
खुलासो की दुनिया @ www.fbkidunia.blogspot.com
विज्ञानं और तकनिकी जानकारी @ www.hindivigyan.blogspot.in

गुरुवार, 2 अक्तूबर 2014

नरेंद्र मोदी जी पूर्व जन्म मैं क्या थे? Reincarnation Case of narendra modi

भारत के धर्म शास्त्र मैं clear बताया गया है की मनुष्य का पुनः जन्म होता है, तथा पूर्व जन्म के कर्मो के आधार पे ही नवीन जीवन मिलता है, अब आज की तारीख मैं ये सब विधाये भारत से गायब होके अमेरिका पहुँच गयी है , इंस्टीट्यूट फॉर दी इंटीग्रेशन ऑफ साइंस, इंस्टीट्यूशन एंड रिसर्च (IISIS) ये अमेरिका के शहर सैनफ्रांसिस्को मैं स्थित एक संस्था है । इस संस्था ने पूरी दुनिया में अब तक करीब 20 हजार स्त्री पुरुषों, बच्चों और यहां तक कि पशुओं के पुनर्जन्म पर भी अनेक अमेरिकी विश्वविद्यालयों की मदद से शोध अध्ययन किए हैं और अनेक पुस्तकें भी प्रकाशित की हैं। इसी संस्था ने मोदी जी के पूर्व जन्म के खुलासे किये हैं- पूनर्जन्म के मामलों पर शोध के दौरान एक धर्म से दूसरे धर्म में, एक देश से दूसरे देश में और स्त्री से पुरुष या पुरुष से स्त्री बनने के हजारों मामले इन विषयों पर शोध करने वालों ने पाए हैं और सबसे ज्यादा हैरत की बात यह पाई कि कोई व्यक्ति पिछले जन्म में जिस स्तर की प्रसिद्धि हासिल किए था उसी स्तर की कामयाबी पा लेता था। नरेन्द्र मोदी जी पिछले जन्म में कट्टर
मुस्लिम थे। उनका नाम था सर सैयद अहमद खान। जी हां, वही सर सैयद अहमद जिन्होंने अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी की स्थापना की थी।

पिछले जन्म के सर सैयद अहमद और इस जन्म के नरेन्द्र मोदी की शक्ल-सूरत, दाढ़ी और आंखें ही एक जैसी नहीं हैं बल्कि उनके जीवन की घटनाएं भी चौंकाने वाली हद तक एक जैसी हैं। यह दावा किसी सिरफिरे ने नहीं किया है बल्कि अमेरिका में सैनफ्रांसिस्को स्थित इंस्टीट्यूट फॉर दी इंटीग्रेशन ऑफ साइंस, इंस्टीट्यूशन एंड रिसर्च (आईआईएसआईएस) ने किया है।
http://fbkidunia.blogspot.in/2014/09/10-things-about-Illuminati.html
मोदी इस जन्म में अभूतपूर्व ढंग से पूरे भारत को अपने पक्ष में करने में कामयाब हुए और अगर पूर्व जन्म शोधवेत्ताओं का दावा सही माना जाए तो मुसलमानों में एकता की अलख जगाकर और अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय की स्थापना करके उन्होंने पिछले जन्म में भी कुछ ऐसा ही काम किया था।

आईआईएसआईएस ने एक शोध में पिछले जन्म में नरेन्द्र मोदी क्या थे? इस पर काम करने के लिए विश्वविख्यात पुनर्जन्म वैज्ञानिक केविन रियर्सन की सेवाएं लीं। केविन ने मिस्र के अहतुन रे नामक माध्यम की सहायता से मालूम किया कि पिछले जन्म में नरेन्द्र मोदी ने सर सैयद अहमद खान के रूप में दुनियाभर के मुसलमानों की एकता, शैक्षिक प्रगति और अधिकारों के लिए काफी काम किया।

वे तब भी दाढ़ी रखते थे और उनका स्वरूप आज जैसा ही हुआ करता था।  उल्लेखनीय है कि सर सैयद अहमद खान ने ही यह अभियान चलाया था कि मुसलमानों को आधुनिक तालीम दी जानी चाहिए और लड़कियों को भी पढ़ाना चाहिए। उन्होंने ही बाद में यह विचार दिया कि मुसलमानों का भला एक पृथक राष्ट्र के गठन के बाद ही मुमकिन है। यही विचार अंतत: पाकिस्तान के गठन का कारण बना। आईआईएसआईएस अनेक नामचीन शोध वैज्ञानिकों और परामनोविश्लेषकों की मदद से विज्ञान, पूर्वाभास और पुनर्जन्म समेत अनेक विषयों पर पिछले 30 साल से काम कर रही है और पूरी दुनिया में इसके लाखों समर्थक हैं। यह जानकर हैरत नहीं होनी चाहिए कि हर देश, धर्म और काल खंड में मृत्यु के बाद की दुनिया, पूर्व जन्म और पुनर्जन्म को मानने वाले करोड़ों लोग मौजूद हैं। आईआईएसआईएस की अपनी वेबसाइट पर पुनर्जन्म, पूर्वाभास और इससे जुड़े अनेक रोचक रहस्यों पर सप्रमाण बेशुमार जानकारी उपलब्ध है। दुनियाभर के इन विषयों के जानकार लेखक और विशेषज्ञ इससे जुड़े हैं। सैकड़ों अन्य कामयाब लोगों के बारे में किए गए शोध अध्ययनों में ऐसा ही धर्मांतरण पाया गया है। सिर्फ एक बात सामान्य रही है कि कुदरत ने किसी को कुछ भी बनाकर इस दुनिया में वापस भेजा, मगर उसकी पिछले जन्म की काबिलियत नहीं छीनी।

पुनर्जन्म पर शोध के बाद अमेरिकी मनोवैज्ञानिक और वर्जीनिया विश्वविद्यालय के विख्यात प्रोफेसर डॉ. इयान स्टीवेंसन ने लगभग 3,000 पुनर्जन्मों की पुष्टि की। उनके इन अध्ययनों पर भी पुस्तकें छपीं। पुनर्जन्म के बारे में स्थापित और विश्वस्तर पर मान्य सिद्धांतों के मुताबिक पुनर्जन्म लेने वालों में पूर्व जन्म की यादें, पूर्व जन्म की आदतें और दिलचस्पियां, शरीर पर पूर्व जन्म जैसे निशान, खानपान की रुचियां और सबसे बढ़कर पूर्व जन्म जैसा ही चेहरा- मोहरा हुआ करता है.
This information is published for knowledge purpose only there is no mentality to harm any religious faith.
for more detail you can search on google:-  Reincarnation Case of narendra modi

You can find the source here http://www.iisis.net/index.php?page=syed-ahmad-khan-reincarnation-narendra-modi-past-life-kevin-ryerson-walter-semkiw&hl=en_US

5 टिप्‍पणियां:

  1. मात्र एक फूहड़ मजाक है और कुछ नही .. अगर नरेंद्र मोदी से मिलते जुलते चेहरे वाला कोई और मनुष्य सामने आ जाये तो क्या कहेंगे ये लोग

    उत्तर देंहटाएं
  2. ह्ह्ह्हह्हह्ह्ह बेवकूफ

    उत्तर देंहटाएं
  3. यार मजाक की भी हद होती है लेकिन ऐसे भी कोई मजाक करता है।बेवकूफ और लूनाटिक

    उत्तर देंहटाएं